नई दिल्ली. लंबे विवाद के बाद पदमावत नाम से रिलीज होने को तैयार फिल्म पद्मावती के लिए अभी भी मुसीबतें कम नहीं हुई हैं. दरअसल मध्यॉ प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ऐलान किया है कि पद्मावत को प्रदेश में रिलीज नहीं किया जाएगा. भोपाल में राष्ट्रीय युवा दिवस के एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे शिवराज सिंह ने कहा कि इस फिल्म पर राज्य में बैन जारी रहेगा. गौरतलब है संजय लीला भंसाली की इस फिल्म में काट-छांट के पहले राजपूत समाज के प्रतिनिधियों से मिलने के बाद चौहान ने कहा था कि फिल्म में तथ्यों से छेड़छाड़ की गई है. गलत तथ्यों को हटाए जाने के बाद ही फिल्म के रिलीज पर विचार किया जाएगा. साथ ही तब उन्होंने पद्मावती को राष्ट्रमाता का दर्जा भी दे दिया था और उनके इतिहास को शिक्षा प्रणाली में शामिल करने की बात भी कही थी.

बता दें कि शुक्रवार को ही गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने भी अपने राज्य में इस फिल्म पर बैन लगा दिया था. वहीं राजस्थान री मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी सोमवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा कि मैंने पहले भी कहा था और अब फिर कह रही हूं, राजस्थान में यह विवादित फिल्म रिलीज नहीं होने दी जाएगी. साथ ही उन्होंने कहा था कि प्रदेश की जनता की भावनाओं का सम्मान करते हुए ये फैसला लिया गया है. इसलिए यह फिल्म प्रदेश के किसी भी सिनेमाघर में नहीं दिखाई जाएगी. राजे ने कहा था कि रानी पद्मावती सिर्फ हमारा इतिहास नहीं बल्कि स्वाभिमान भी हैं. दूसरी ओर हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी कहा है कि फिल्म को राज्य में दिखाए जाने पर कोई भी फैसला लोगों की भावनाओं को ध्यान में रखकर ही लिया जाएगा.

पद्मावती से पद्मावत हुई संजय लीला भंसाली और दीपिका पादुकोण की फिल्म को रिलीज ना होने देने पर अड़ी करणी सेना, कहा- जनता कर्फ्यू लगा देंगे

संजयलीला भंसाली की पद्मावत में 300 कट से प्रसून जोशी का इंकार, कहा- सेंसर बोर्ड को बदनाम न करें