नई दिल्ली. सोशल मीडिया पर आजकल ‘द विजिट’ टाइटल के लेस्बियन एड को देश का पहला लेस्बियन एड बताया जा रहा है. जबकि, सच्चाई यह है कि दो साल पहले ही वॉच बनाने वाली भारत की कंपनी फास्टट्रैक ने देश का पहला लेस्बियन एड बना दिया था हालांकि उस वक्त यह एड सोशल मीडिया पर वायरल नहीं हो पाया था जिसके कारण लोगों को इसके बार में पता नहीं चल पाया था. 

 

इस एड में दो लड़कियों को एक बंद अलमारी में दिखाया गया है जो बाहर निकलकर अपनी वॉच में टाइम देखकर निकल जाती हैं. ‘कम आउट ऑफ दा क्लोजेट मूव ऑन’ टाइटल के इस एड को यूट्यूब पर महज 11 हजार लोगों ने देखा है. जबकि हाल ही में आए कथित देश के पहले लेस्बियन एड को 2 लाख से ज्यादा लोगों  ने देख लिया है