नई दिल्ली. बॉलीवुड अभिनेता राजपाल यादव को सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं मिली है. रिपोर्ट्स के मुताबिक कर्ज न चुकाने के चलते राजपाल को 6 दिन के लिए तिहाड़ जेल जाना पड़ेगा.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
राजपाल पर आरोप है कि वह दिल्ली के बिजनेसमैन से लोन का सैटलमेंट नहीं कर रहे हैं और न ही पैसे चुका रहे हैं. इसी के चलते सुप्रीम कोर्ट ने राजपाल की याचिका खारिज कर दी है और उन्हें सरेंडर करने का आदेश दिया है.
 
बता दें कि साल 2013 में एक गलत हलफनामा दायर करने के मामले में हाईकोर्ट ने राजपाल यादव को दस दिन कैद की सजा दी थी. यादव अपनी सजा में से चार दिन पहले ही जेल में बिता चुके हैं. 
 
कोर्ट के फैसले के बाद राजपाल यादव ने इंडिया न्यूज से हुई खास बातचीत में कहा, ‘मुकदमा 4 साल पुराना है. कुल 22 करोड़ की फिल्म बनी थी जिसमें 17 करोड़ मेरा और बाकी 5 करोड़ एमजी अग्रवाल का था, जिसमें मुझे अग्रवाल का पैसा लौटाना था, लेकिन इनकी वजह से पूरे पैसे डूब गए. उसके बाद इनलोगों ने मेरे ऊपर पैसे हड़पने का आरोप लगाया. इसके पीछे बहुत बड़ी साजिश है, जिसमें मिथिलेश कुमार और माधव कुमार जैसे लोग शामिल हैं. यह जिन्दगी का पहला मौका है जब मुझे मुकदमा लड़ना पड़ रहा है.’
 
उन्होंने आगे कहा, ‘लोग आजकल जितना अपने दुःख से दुःखी नहीं हैं, उससे ज्यादा दूसरों के सुख से दुःखी हैं. इस पूरे प्रकरण से तो यही लगता है कि या तो राजपाल मेंटल है या फिर इसके पीछे बहुत बड़ी राजनीतिक साजिश है.’
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
जस्टिस कुरियन जोसफ और रोहिंटन नरीमन की बेंच ने उन्हें आड़े हाथों लेते हुए कहा कि आपने न्यायिक प्रक्रिया को मजाक समझ लिया है. हम आपको दिखाएंगे कि कोर्ट की ताकत क्या होती है.