मुंबई. सदी के महानायक अमिताभ बच्चन और मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान ने अनुराग कश्यप की फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ में 89 कट लगाने के सेंसर बोर्ड के ‘अजीब’ सुझाव पर आपत्ति जताई. बिग बी ने कहा कि ‘रचनात्मकता की हत्या’ कलाकारों की ‘मौलिकता’ का गला घोंट सकती है. ये सही नहीं है. वहीं आमिर ने कहा कि फिल्म में कट लगाने की मांग करने से सेंसर बोर्ड की छवि धूमिल हो रही है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
अमिताभ से यहां उनकी आगामी फिल्म ‘टीई3एन’ के सम्मेलन में ‘उड़ता पंजाब’ विवाद पर उनकी राय मांगी गई. उन्होंने जवाब में कहा, “मैं इस विवाद से ज्यादा वाकिफ नहीं हूं. मैं इसके बारे में पढ़ता आ रहा हूं. मैं यही कह सकता हूं कि रचनात्मकता का गला न घोंटे और ऐसी कोशिश न करें. आप अगर रचनात्मकता को मार देंगे, तो आप कलाकारों की मौलिकता का ही गला घोंट देंगे. यह घातक होगा.”
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
उड़ता पंजाब पर बोले आमिर
आमिर खान ने ‘उड़ता पंजाब’ ‘उड़ता पंजाब’ फिल्म नशे की लत के बारे में एक ‘अच्छा सामाजिक संदेश’ देने का प्रयास कर रही है. उन्होंने उड़ता पंजाब के बचाव में कहा कि यह एक सामाजिक फिल्म है, जो पंजाब के युवाओं में व्याप्त नशे के बारे में है. इसमें एक बढ़िया सामाजिक संदेश है. मुझे नहीं लगता कि फिल्म में कुछ ऐसा है, जिसमें कुछ काट-छांट करनी चाहिए या दर्शकों को नहीं देखने देना चाहिए.”