इलाहाबाद. कुछ दिन पहले गांधी फैमिली पर ऋषि कपूर के सिलसिलेवार ट्वीट को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ता बेहद नाराज हैं. कुछ कांग्रेसियों ने इसका विरोध जताते हुए इलाहाबाद में एक सुलभ शौचालय का नाम बदलकर ऋषि कपूर पब्लिक टॉयलेट कर दिया है. वहीं दूसरी ओर ऋषि कपूर ने इस मामले में प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि ऐसा होने पर उन्हें काफी खुशी हैं और गर्व महसूस कर रहे हैं.  
 
टॉयलेट के बाहर लटकाया बोर्ड
रिपोर्ट्स के मुताबिक इलाहबाद के शिवाजी पार्क एरिया में सोमवार को कई कांग्रेस कार्यकर्ता एक सुलभ शौचालय पहुंचे. यहां उन्होंने इस पब्लिक टॉयलेट के बाहर ऋषि कपूर के नाम का एक बोर्ड लटका दिया है. नाराज कांग्रेसियों ने कहा कि कपूर ने जो किया वो गांधी परिवार की बेइज्जती है, इसलिए देश भर के कांग्रेस कार्यकर्ता उनसे खफा हैं. 
 
‘शौचालय से बेहतर जगह नहीं’
कांग्रेस नेताओं ने कहा कि गांधी परिवार पर सवाल उठाते वक्त ऋषि कपूर ने अपना नाम भी सरकारी बिल्डिंग में लिखे जाने की ख्वाहिश जताई थी, इसलिए सुलभ शौचालय से बेहतर कोई और जगह नहीं मिली.
 
ऋषि कपूर का जवाब
वहीं ऋषि कपूर ने इस मामले को लेकर मुंहतोड़ जवाब देते हुए कहा है कि ‘मैं बहुत खुश हूं. मैं किसी काम तो आऊंगा, लेकिन ये कांग्रेसी किसी काम आने वाले नहीं हैं, मुझे गर्व हो रहा है कि मेरे नाम पर किसी सुलभ शौचालय का नाम रखा गया है, क्योंकि यह तो पीएम मोदी के महत्वकांक्षी प्रोजेक्ट का हिस्सा है. 
 
‘आवाज उठाना मेरा अधिकार है’
इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि ‘मैंने जो कुछ भी कहा वो मेरा नजरिया है. अब यह कुछ लोगों को बुरा लग सकता है, लेकिन भारत का नागरिक होने के नाते अपनी आवाज उठाना मेरा अधिकार है. मुझे पता है कि मेरी बातों से कुछ कांग्रेसी परेशान हो गए है, लेकिन उन्होंने मुझे समझने में गलती की है. इसमें मेरा कोई दोष नहीं है’
 
क्या है पूरा मामला
बता दें कि 17 मई को लगातार कई ट्वीट करके ऋषि कपूर ने कहा था कि देश में रोडवेज, एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशनों का नाम गांधी परिवार के लोगों के नाम पर ही क्यों रखा जा रहा है. महात्मा गांधी, भगत सिंह या अंबेडकर के नाम पर क्यों नहीं?
 
उन्होंने कहा, ‘हर चीज गांधी के नाम पर, मुझे मंजूर नहीं.’ इसके अलावा उन्होंने अपने एक ट्वीट में भड़ास निकालते हुए  यह भी लिखा था कि भड़ास निकाली थी और कहा था कि बाप का माल समझ रखा था? जो हर चीज गांधी के नाम ही रखी गई. इस पर कांग्रेस ने सलाह दी थी कि वे पहले गांधी फैमिली की हिस्ट्री को ठीक से समझ लें.