मुंबई. बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान का कहना है कि नकारात्मक लोगों की संख्या कम हैं लेकिन वह चिल्लाते ज्यादा है इसलिए हम नकारात्मक बातें ज्यादा सुनते हैं. 
 
51 साल के हो चुके आमिर ने कहा, ‘आपका विवेक स्पष्ट होना चाहिए, आपको अपनी सकारात्मकता तथा अपने प्रति लोगों की सकारात्मकता पर ध्यान देना चाहिए. ज्यादातर लोग सकारात्मक हैं. लेकिन नकारात्मक लोग बहुत ज्यादा चिल्लाते हैं इसलिए हम ढेर सारी नकारात्मक बातें सुनते हैं. नकारात्मक लोग कम हैं लेकिन चूंकि वे चिल्लाते हैं तो हम उन्हें सुनते हैं और हमें महसूस होता कि वे बहुत सारे हैं.’
 
पिछले साल नवंबर में असहिष्णुता पर अपने बयान से खड़े हुए विवाद का सामना कर चुके बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘मैं क्या महसूस करता हूं, उसे ज्यादातर दर्शक जानते हैं. उनके साथ मेरा संबंध 27 सालों से भी अधिक का है. जो लोग मुझ पर सवाल उठाते हैं, वे मेरे विरूद्ध पूर्वग्रह से ग्रस्त हैं, मैं क्या करता हूं, उससे फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि सवाल तो करेंगे ही.’
 
‘मंगल पाण्डेय’, ‘लगान’ और ‘रंग दे बसंती’ जैसी फिल्में कर चुके आमिर से जब देशभक्ति के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उनके लिए समाज के प्रति संवेदनशीलता और दिल में प्रेम होना ही देशभक्ति है. उन्होंने कहा, ‘देशभक्ति के लिए, जरूरी है कि आपके दिल में प्यार हो, समाज एवं लोगों के प्रति संवेदनशीलता हो. मेरे लिए यही देशभक्ति है.’
 
आमिर ने पानी के संकट पर बात करते हुए लोगों से इस बार सूखी होली मनाने की अपील की है. 
 
बता दें कि पिछले साल आमिर के इस बयान से कि उनकी पत्नी देश में हो रही घटनाओं से काफी चिंतित है और वह तो देश तक छोड़ने की बात कह चुकी हैं, बड़ा विवाद खड़ा हो गया था. आमिर को कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ा था. उसके बाद उन्होंने सफाई दी थी कि न तो उनका और न ही उनकी पत्नी की देश छोड़ने की मंशा है.