नई दिल्ली. छत्तीसगढ़ में आलोर, फरसगांव स्थित एक ऐसा दरबार है, जहां का दरवाजा साल में एक ही बार खुलता है, यह है लिंगेश्वरी माता का मंदिर. इस मंदिर का पट खुलते ही पांच व्यक्ति रेत पर अंकित निशान देखकर भविष्य में घटने वाली घटनाओं की जानकारी देते हैं.
 
रेत पर यदि बिल्ली के पंजे के निशान हों तो अकाल और घोड़े के खुर के चिह्न् हो तो उसे युद्ध या कलह का प्रतीक माना जाता है. ऐसे ही मंदिर से जुड़े राज देखिए इंडिया न्यूज शो धर्मचक्र में.
 
वीडियो क्लिक कर देखिए पूरा शो