नई दिल्ली. विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह के विवादित रिटायरमेंट पर अंग्रेजी अखबार द हिंदू ने एक बड़ा खुलासा किया है. अखबार का दावा है कि वीके सिंह के सेना प्रमुख के पद से रिटायर होने से ठीक पहले कई गोपनीय फाइलें नष्ट की गई थीं. अखबार की माने तो 22 से 25 मई 2012 के बीच तमाम गोपनीय दस्तावेज नष्ट कर दिए गए. 
 
गौरतलब है कि इनमें से ज्यादातर दस्तावेजद टेक्निकल सर्विस डिवीजन नाम की उस खास यूनिट से जुड़े थे जो जनरल वी के सिंह ने 2010 में बनाई थी. अखबार ने सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि नष्ट किए दस्तावेजों में से ज्यादातर इस यूनिट की तरफ से सेना के खुफिया ऑपरेशन से जुड़े हुए थे. अखबार के मुताबिक जो दस्तावेज नष्ट किए गए उनमें से एक में टेक्निकल सर्विस डिवीजन के हर महीने के खर्च का बैंक स्टेटमेंट भी था.
  
अखबार ने सूत्रों के हवाले से ये भी बताया है कि एक उस समय टेक्निकल सर्विस डिवीजन के प्रमुख कर्नल हनी बख्शी और इस डिवीजन के अधिकारी कर्नल सर्वेश ढडवाल से जुड़ी फाइलें भी नष्ट की गई थीं. जनरल वी के सिंह का बनाया सेना का टेक्निकल सर्विस डिवीजन विवादों में रहा है. बाद में इसे खत्म कर दिया गया था.
 
विदेश राज्य मंत्री वी के सिंह ने अंग्रेजी अखबार द हिंदू को इस बारे में जवाब भी दिया है. जनरल वी के सिंह ने कहा है कि जो खबर अखबार ने छापी है, उस पर उन्होंने संवाददाता को 2012 में ही तफ्शील से पूरी जानकारी दे दी थी, लेकिन पूरी जानकारी नहीं छापी गई.