नई दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने FTII के पांच छात्रों की गिरफ्तारी की निंदा की है. केजरीवाल ने कहा कि एक अंतरराष्ट्रीय स्तर का संस्थान सरकार के गलत फैसलों से बर्बाद हो रहा है. केजरीवाल ने FTII के विद्यार्थियों को ऑफर दिया कि जब तक केंद्र सरकार आपकी मांगे नहीं मान लेती, तब तक दिल्ली सरकार आपके लिए अस्थायी जगह की व्यवस्था कर सकती है, जहां आपकी क्लास सुचारू रूप से चल सके.
 
 
केजरीवाल ने कहा कि अगर केंद्र सरकार आपकी मांगें नहीं मानती हैं, तो हम इस जगह को एक संस्थान में बदल देंगे और विद्यार्थी यहीं पढ़ाई कर पाएंगे. गौरतलब है कि मंगलवार को आधी रात फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (FTII) के कैंपस से पुणे पुलिस ने 17 नामजद छात्रों में से 5 को गैरजमानती धाराओं के तहत गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस कैंपस के हॉस्टल में करीब 1:15 बजे पहुंची. छात्रों पर सरकारी काम में बाधा डालने और गैरकानूनी रूप से इकट्ठा होने समेत कई गंभीर आरोप लगाए हैं.
 
बताया जाता है कि बाकी नामजद छात्र कैंपस में मौजूद नहीं थे. हालांकि, अन्य छात्रों को लेकर अभी भ्रम की स्थिति बनी हुई है. संस्थान के डायरेक्टर प्रशांत पाथराबे की शि‍कायत के बाद डेक्कन पुलिस थाने में छात्रों के खि‍लाफ आईपीसी की धारा 353 के तहत केस दर्ज किया गया है, जो गैरजमानती है. नामजद छात्रों में तीन लड़कियां भी शामिल हैं, जबकि लड़कियों को अरेस्ट नहीं किया गया है. पुलिस ने 40 छात्रों के खि‍लाफ एफआईआर दर्ज की है.
 
दूसरी ओर, छात्रों की गिरफ्तारी के बाद डेक्कन पुलिस थाना परिसर में बड़ी संख्या में छात्र और कुछ फैकल्टी मेंबर्स इक्ट्ठा हो गए. पुलिस से जब आधी रात को धावा बोलने की वजह के बारे में पूछा गया, तो पुलिस ने कहा कि उन्होंने निर्देश का पालन किया है. संस्थान के डायरेक्टर प्रशांत पाथराबे ने उन छात्रों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी, जिन्होंने सोमवार रात उन्हें 6 घंटों तक कार्यालय में घेर कर रखा था.