नई दिल्ली. उधमपुर पर बीएसएफ की बस पर हमला करने वाले आतंकवादी नावेद का मंगलवार को लाई डिटेक्टर टेस्ट होगा. एनआईए को उससे कई अहम सुराग मिले हैं जिनकी वो तस्दीक कर रही है. दिल्ली की पटियाला हाउस अदालत ने जिंदा पकड़े गए पाकिस्तानी आतंकी नवेद के पोलीग्राफी टेस्ट की इजाजत दे दी है. अब एनआईए मंगलवार को दिल्ली में यह टेस्ट कराएगी. यही नहीं, उसकी डीएनए प्रोफाइलिंग भी होगी, ताकि उसे पाकिस्तान को भेज कर उसके पिता से उसका मिलान कराया जा सके.
 
एनडीटीवी को पता चला है कि गूगल मैप पर नवेद ने अपने घर के इलाके की भी शिनाख़्त कर दी है. एनआईए की टीम उससे रोज 6 से 8 घंटे पूछताछ कर रही है. उससे मिली जानकारी के मुताबिक नवेद को ड्रग्स दिए जाते थे ताकि उसका हौसला बना रहे.
 
लश्कर ने उसके घर वालों को धमकाया था कि वह नवेद को भूल जाएं. लश्कर ने नवेद को भारत में 5-6 जगह हमले करने के लिए भेजा था. उसे हिंदुओं से नफरत करना सिखाया गया था. हमलों के बाद वापसी पर उसका खास खयाल रखने की बात उससे कही गई थी. नवेद बताता है कि उसे 50,000 रुपये देने का वादा किया गया था. मगर नावेद को यह बाद में एहसास हुआ कि उसके आकाओं ने उसे मरने को भेजा था. वह अब उनसे मायूस है और बदला लेना चाहता है. अब भारतीय एजेंसियां उसके बयानों को पुख्ता सबूतों में बदलने में जुटी हैं.
एजेंसी