गुरदासपुर. पंजाब के गुरदासपुर में हुए आतंकी हमले में अभी तक कुल 13 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 2 आतंकियों के मारे जाने कि भी खबर आ रही है. आतंकियों के पाकिस्तान की सीमा से आने की आईबी ने पुष्टि‍ की है, वहीं गृह मंत्रालय से जुड़े सूत्रों ने बताया कि आतंकियों ने सबसे पहले सुबह करीब 5 बजकर 30 मिनट पर एक टेम्पो को लूटने की कोशि‍श की, लेकिन वह इसमें सफल नहीं हुए. इसके बाद उन्होंने कुछ इस तरह वारदात को अंजाम दिया.

जानिए कब क्या हुआ
 

पहला हमला: आर्मी यूनिफॉर्म में भारी हथियारों के साथ आए 4 टेररिस्ट सबसे पहले गुरदासपुर के दीनानगर में बस टर्मिनल के पास पहुंचे. आईबी के मुताबिक ये आतंकी पाकिस्तान के नरोवाल के रहने वाले हैं. आतंकियों ने सुबह करीब 5 बजे सड़क किनारे बने चाय-नाश्ते के स्टॉल पर फायरिंग की. 

दूसरा हमला: इसके बाद टेररिस्ट ने मारूति 800 में गुजर रहे कमलजीत सिंह मथारू नाम के शख्स पर फायरिंग की. कमलजीत सिंह को गोली लगने के बाद आतंकियों ने उन्हें बाहर फेंका और कार में सवार हो गए.

तीसरा हमला: दीनानगर बायपास पर आतंकियों ने कार के अंदर से सड़क किनारे फिर फायरिंग की. ढाबा चलाने वाले एक शख्स की मौके पर ही मौत हो गई.

चौथा हमला: कार में सवार होने के बाद टेररिस्ट ने एक चलती बस को निशाना बनाया. यह बस दीनानगर से जम्मू के कटरा जारी रही थी. बस के अंदर 25 से 30 पैसेंजर्स सवार थे. बता दें कि काफी अमरनाथ यात्री कटरा से गुजरते हैं. आतंकियों की फायरिंग के कारण बस के अंदर मौजूद 4 लोग घायल हो गए. एक व्यक्ति की मौके पर ही मौत हो गई.

पांचवां हमला: आतंकी दीनानगर पुलिस थाने के पास मौजूद एक हेल्थ सेंटर पर पहुंचे. यहां उन्होंने जबर्दस्त फायरिंग की. इसमें एक महिला समेत 3 सिविलियन की मौत हो गई. यहीं मौजूद एक पुलिसकर्मी भी शहीद हो गया. 

छठा हमला: टेररिस्ट ने पुलिस थाने के पास बने एक कॉम्प्लेक्स पर बाहर से गोलियां चलाईं. यहां कई पुलिस अफसरों के परिवार रहते हैं.

सातवां हमला: टेररिस्ट सुबह 6:30 बजे से पहले दीनानगर पुलिस स्टेशन पहुंच चुके थे. उन्होंने ग्राउंड फ्लोर पर कब्जा कर लिया. अंदर से बाहर की तरफ ग्रेनेड फेंके. एके-47 से गोलियां चलाईं. पंजाब पुलिस के बॉर्डर जोन के आईजी ईश्वर चंदर के मुताबिक, आतंकियों ने किसी को बंधक नहीं बनाया है लेकिन वे थाने पर हमले के बाद उसके पास बनी एक बिल्डिंग के अंदर हैं जहां एनकाउंटर चल रहा है. हमले के कुछ ही देर बाद आर्मी ने मोर्चा संभाल लिया था. पठानकोट आर्मी कैंट और जम्मू से आर्मी कमांडोज़ बुलाए गए.

मुठभेड़ है जारी
बस के बाद सामने से आ रही मारुति कार पर फायरिंग की. कार को रोककर कब्जे में लिया. कार लेकर आतंकी पुलिस थाने में घुसने लगे, एक पुलिसकर्मी ने उन्हें रोकने के लिए गार्ड के रायफल से फा‍यरिंग की. SP डिटेक्टि‍व बलजीत सिंह थाने से बाहर निकले और आतंकियों पर फा‍यरिंग की, लेकिन आतंकियों की गोली से शहीद हो गए. इस गोलीबारी में तीन नागरिकों और होमगार्ड के दो जवानों की मौत हो गई. एक से दो आतंकी के अंदर छिपे होने की संभावना है. आतंकी AK47 और हैंड ग्रेनेड से हमला कर रहे हैं. आतंकियों में एक महिला दहशतगर्द भी शामिल है. सेना, NSG, SSG, पंजाब पुलिस, जम्मू-कश्मीर SWAT की टीम आतंकियों से लोहा ले रही है.

एजेंसी इनपुट भी