नई दिल्ली. संसद के मॉनसून सत्र का आज तीसरा दिन है. आज भी संसद के चलने के आसार कम हैं. विपक्ष के हंगामे के बीच कई बिल संसद में अटके हुए हैं. इनमें जुवेनाइल जस्टिस बिल, दिल्ली हाईकोर्ट संशोधन बिल 2015 और एससी-एसटी संशोधन बिल शामिल है.

सुषमा-वसुंधरा और व्यापम पर नहीं चली थी संसद
इससे पहले बुधवार को ललित मोदी के मुद्दे पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के इस्तीफ़े की मांग में जुटे विपक्ष ने दूसरे दिन भी संसद चलने नहीं दी. हाथ में बैनर और काली पट्टी बांधकर कांग्रेसी सांसदों ने सदन के वेल में जमकर प्रदर्शन किया, लेकिन कांग्रेसी सांसदों ने स्पीकर की चेतावनी को और बीजेपी की धमकी दोनों को अनसुना कर दिया. उधर, राज्यसभा में व्यापमं पर शोर मचता रहा. इन्हीं हंगामों के चलते सदन की कार्यवाही बार-बार स्थगित होती रही.

वहीं वित्तमंत्री अरुण जेटली भी बार-बार साफ करते नजर आए कि हम चर्चा को तैयार हैं. सुषमा स्वराज बयान देने को तैयार हैं. सारा देश सुषमा को सुनना चाहता है, लेकिन विपक्ष लगातार हंगामा करता रहा. वहीं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बुधवार को कहा, उन्हें जो कहना है, कहने दीजिए. हम अपना विरोध जारी रखेंगे.