नई दिल्‍ली. व्यापम घोटाले में घिरे मध्‍यप्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आखिरकार सीबीआई जांच के लिए हामी भर दी है. उन्होंने मंगलवार दोपहर करीब डेढ़ बजे प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में इसका एलान किया. ढाई घंटे के अंदर ही, करीब चार बजे मध्यप्रदेश हाईकोर्ट को लेटर भी लिख दिया. बताया जा रहा है कि लेटर स्पेशल प्लेन से जबलपुर स्थित हाईकोर्ट भिजवाने की व्‍यवस्‍था की गई.

उमा के बयान के बाद बना दबाव!
प्रेस कॉन्फ्रेंस में सीएम ने कहा- ‘मैं हाईकोर्ट से इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की गुजारिश करूंगा. पिछले कुछ दिनों से जो कुछ हो रहा है, उससे सवाल खड़े हो रहे हैं. सोमवार को मैं पूरी रात सो नहीं सका. मुझे लगा कि सभी संदेहों को दूर किया जाना चाहिए.’ शिवराज सिंह चौहान ने उमा भारती से जुड़े सवाल का भी जवाब दिया. उन्होंने कहा, ‘उमा भारती मेरी बहन की तरह हैं. उन्होंने अपने अंतर-मन की बात कही है. इसलिए मुझे नहीं लगता कि उन्होंने जो कुछ भी कहा है वह किसी के खिलाफ है. मैं उनका आदर करता हूं. जब वे पार्टी में नहीं थीं, तब भी मैंने एक शब्द भी उनके खिलाफ नहीं कहा था. इंदौर क्राइम ब्रांच ने सबूतों के साथ छेड़छाड़ की है. मैं खुद भी चाहता हूं कि व्यापमं मामले में उठ रहे सवालों के निष्पक्ष जवाब मिले.’