नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने योग को कक्षा 6 से लेकर 10 तक के पाठ्यक्रम में एक अनिवार्य विषय के रूप में शामिल कर दिया है. यह नियम केंद्र सरकार द्वारा संचालित सभी स्कूलों पर लागू होगा. शिक्षकों के प्रशिक्षण कार्यक्रम में भी योग को जगह दी गई है. इसके अलावा योग पर एक राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी. इसमें सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले को पांच लाख रुपये का इनाम दिया जाएगा. 

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने सोमवार को पाठ्यक्रम जारी करते हुए कहा कि नए विषय में 80 नंबर प्रैक्टिकल के लिए रखे गए हैं. इस कारण विद्यार्थियों पर अतिरिक्त बोझ नहीं पड़ेगा. उन्होंने बताया कि इस नए विषय को अपने यहां पाठ्यक्रम में शामिल करने या नहीं करने का फैसला राज्यों पर छोड़ा गया है. मंत्रालय ने शिक्षकों के लिए भी पाठ्यक्रम तैयार किया है. इसमें योग शिक्षा में डिप्लोमा, स्नातक और परास्नातक है. इस बारे में पूछे जाने पर ईरानी ने कहा कि इसका मकसद योग में निपुण शिक्षक तैयार करना है ताकि आने वाली जरूरतों को पूरा किया जा सके. सीबीएसई के अधिकारियों के अनुसार संबद्ध विद्यालयों में योग पर आधारित विषय को शामिल करने के बारे में योजना बनानी है. सभी केंद्रीय विद्यालयों और जवाहर नवोदय विद्यालयों में यह विषय अनिवार्य होगा. 

एजेंसी