नई दिल्ली. मॉरीशस की कंपनी विल्टन से आए 21 करोड़ रूपये के मामले मे ईडी दिल्ली ने ललित मोदी की कंपनी आनंद हेरिटेज और उनके निदेशको के खिलाफ फेमा के तहत मामला दर्ज कर लिया है. ईडी ने ललित मोदी की कंपनी को नोटिस जारी करके कई सवालो के जवाब मांगे हैं. कंपनी के निदेशकों की डिटेल, शेयर होल्टिंग डिटेल्स, कंपनी में लगे पैसे के स्रोत के बारे में पूछा गया है.

रेड कॉर्नर नोटिस होगा जारी!
ललित मोदी प्रकरण में सरकार की फजीहत के बाद उन पर नकेल कसे जाने के संकेत मिल रहे हैं. खबर है कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) पूर्व आइपीएल प्रमुख के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर सकता है. ईडी के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि मनी लाउंड्रिंग के आरोपी ललित मोदी के खिलाफ कार्रवाई की प्रक्रिया जल्द ही आगे बढ़ेगी. इसके बाद ब्रिटेन प्रशासन ललित मोदी की गिरफ्तारी के बारे में फैसला करेगा और उनके प्रत्यर्पण की प्रक्रिया शुरू होगी. 

मनी लॉउंड्रिंग एक्ट के एक मामले में ललित मोदी के खिलाफ ईडी के पास सबूत हैं. इनके सहारे ब्रिटिश कोर्ट में भी उनको घेरा जा सकता है. अब तक ललित के खिलाफ ब्लू कॉर्नर नोटिस ही जारी किया गया था, क्योंकि उनके खिलाफ मजबूत सबूत नहीं था, जिसे ब्रिटिश कोर्ट में पेश किया जा सके. ईडी को अब रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने के लिए हरी झंडी का इंतजार है.

कांग्रेस करेगी प्रदर्शन
कांग्रेस इस मामले को लेकर राज्य सरकार और केंद्र सरकार दोनों पर लगातार हमला जारी रखे हुए है. आज जयपुर में कांग्रेस प्रदर्शन करेगी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के इस्तीफे की मांग करेगी. राजस्थान प्रदेश कांग्रेस, मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने ललित मोदी को वीजा उपलब्ध कराने के मामले में केंद्र सरकार को सख्‍त कदम उठाने को कहा है. वहीं, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट की अध्यक्षता में उदयपुर में आयोजित हुई प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में सदस्यों ने हाथ उठा कर सुषमा व राजे को तत्काल इस्तीफा देने की मांग की. 

एजेंसी इनपुट भी