नई दिल्ली. दिल्ली में दो संवैधानिक पदों के बीच अधिकार की जंग जारी है. अरविंद केजरीवाल के अरविंद रे को प्रमुख सचिव बनाने के फैसले के बाद स्थिति और पेचीदा हो गयी है. दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग ने आज राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाकात की है और अब शाम 6.30 बजे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल राष्ट्रपति से मिलेंगे.

बताया यह भी जा रहा है कि उपराज्यपाल में इस संबंध में राष्ट्रपति को अब तक की घटनाओं से अवगत करा दिया है. कार्यवाहक मुख्य सचिव शकुंतला गैमलिन की नियुक्ति से शुरू हुआ विवाद बढ़ता ही जा रहा है. दिल्ली सरकार और उप-राज्यपाल के बीच का टकराव एक क़दम और आगे बढ़ गया है.

बीती रात दिल्ली सरकार ने अफ़सरों को सीधे उप-राज्यपाल के दफ़्तर से आदेश न लेने का निर्देश जारी किया है. उप-राज्यपाल दफ़्तर से जारी किसी आदेश को मानने से पहले संबंधित विभाग के मंत्री से मंज़ूरी लेने को कहा गया है. अधिकारियों को रूल बुक की एक कॉपी दी गई है, जिसके मुताबिक़, एलजी से कोई भी संवाद दिल्ली सरकार के ज़रिये होना चाहिए. इससे पहले सोमवार को दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने चिट्ठी लिखकर एलजी के आदेश को मानने से इनकार कर दिया.

अफ़सरों की नियुक्ति को लेकर दिल्ली सरकार और उपराज्यपाल में भिड़ंत जारी है, इसकी ताजा कड़ी में डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने चिट्ठी लिखकर LG का आदेश मानने से इनकार कर दिया है. वहीं, दिल्ली सरकार ने अधिकारियों को चिट्ठी लिखकर कहा है कि उपराज्यपाल से मिले आदेशों का सीधा पालन न किए जाए. उससे पहले मंत्रियों की अनुमति ली जाए.

IANS से भी इनपुट