नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को गुरुदेव रबिंद्रनाथ टैगोर की जयंती के अवसर पर उन्हें नमन किया. मोदी ने अपने संदेश में लिखा, “आज हम भारत के मनहान विचारकों में से एक गुरुदेव रबिंद्रनाथ टैगोर को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं. उनकी रचनाएं पीढ़ियों को प्रभावित कर रही हैं. उन्होंने सर्वश्रेष्ठ प्राचीन और आधुनिक भारतीय बौद्धिक विचारों को प्रतिनिधित्व किया है.”

मोदी कहा, “गुरुदेब टैगोर ने अपने साहित्य, कला, और संगीत के जरिए भारतीय अतीत की बुद्धिमत्ता को इस तरह संजोया कि देश के भविष्य का निर्माण हो सके.” प्रधानमंत्री ने कहा कि गुरुदेब ने हमें स्वतंत्र रह कर सोचने की ताकत के बारे में बताया. साथ ही हमें ‘आजादी के स्वर्ग’ का सपना देखने के लिए प्रेरित किया जहां हम बिना किसी डर के रह सकें और सिर उठा के चल सकें.

मोदी ने कहा, “हम राष्ट्र निर्माण में गुरुदेब टैगोर के अत्यंत महत्वपूर्ण योगदान को गर्व के साथ याद करते हैं.” टैगोर को 1913 में साहित्य का नोबेल पुरस्कार मिला था तथा वह नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले भारतीय थे. टैगोर का जन्म सात मई 1861 को कोलकाता में हुआ था.

IANS