फारबिसगंज. शिक्षा, स्वास्थ्य, क्राइम के अलावा रोजगार भी इस बार बिहार चुनाव का अहम मुद्दा बना हुआ है. जूट उद्योग के लिए मशहूर फारबिसगंज के लोग वोट डालने में नेताओं और पार्टियों को इस पैमाने पर भी कसेंगे.
 
इंडिया न्यूज ‘चुनावी चौराहा’ टीम जब फारबिसगंज पहुंची तो लोगों ने बताया कि यहां लोग एमबीबीएस, एमए और बीए कर चुके हैं लेकिन किसी के पास उनके लिए नौकरी नहीं है. क्राइम बढ़ता जा रहा है. किसान जूट छोड़कर मक्का की खेती करने के लिए मजबूर हो गए हैं.
 
इस सीट पर महागठबंधन से आरजेड़ी ने कृत्यानंद विश्वास को टिकट दिया है जबकि एनडीए की तरफ से बीजेपी के मंचन केसरी मैदान में हैं. 
 
वीडियो पर क्लिक करके देखिए पूरा शो