पटना. बिहार में कुर्सी के लिए हर नेता तमाम तरह की कोशिशों में लगा हुआ है. जीत के चक्कर में नेता तांत्रिकों, ज्योतिषियों, बाबाओं, आध्यात्मिक गुरुओं के चक्कर काटने से भी गुरेज नहीं करते हैं. ऐसा ही एक नज़ारा आज तब देखने को मिला जब नीतीश कुमार अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए एक तांत्रिक बाबा से मिलने पहुंच गए.
 
बाबा भी नीतीश से काफी खुश दिखाई दिए लेकिन बातों-बातों में ही उन्होंने आरजेडी प्रमुख लालू यादव मुर्दाबाद के नारे भी लगा दिए. हालांकि नीतीश ने माहौल को समझते हुए उनकी इसे हरक़त को मुस्कुराकर टाल दिया. 
 
कौन किसका भक्त
नीतीश कुमार, शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद के फॉलोअर्स में शामिल हैं तो लालू यादव पगला बाबा के भक्त. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भी अपने गुरु स्वामी दयानंद गिरी को लेकर लगाव कई बार सामने आ चुका है. गिरी का पिछले महीने ही निधन हो गया। यहां तक कि इटली की रहने वाली सोनिया गांधी भी राजीव गांधी से शादी होने के बाद इस असर से बच नहीं सकीं और 1989 में जा पहुंचीं देवरहा बाबा के आश्रम.