नई दिल्ली. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी विकास की बातें करती है, लेकिन यह सिर्फ पार्टी का चुनावी ‘मुखौटा’ है. पार्टी का मुख्य एजेंडा सांप्रदायिक ध्रुवीकरण का है.
 
सीएम नीतीश ने कहा कि दादरी में गोमांस खाने के अफवाह में एक व्यक्ति की पीट-पीटकर हत्या कर दी. इस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ नहीं बोले. ये चुप्पी देश के लिए ‘खतरनाक’ है.
 

 
नीतीश ने इस बात पर जोर दिया कि 2014 के लोकसभा चुनाव में जनादेश मोदी के पक्ष में था. लेकिन इस चुनाव (बिहार चुनाव) का ताल्लुक पूरी तरह से मेरे उन कामों से है जो मैंने बतौर मुख्यमंत्री किए हैं. उन्होंने कहा कि बीजेपी किसी भी तरह से बिहार चुनाव जीतने के लिए परेशान है. बीजेपी इतनी बेचैन है कि इसका पूरा नेतृत्व ही पटना आ गया है.
 

 
बता दें कि बिहार में पांच चरणों के चुनाव में दो चरण पूरे हो चुके हैं और तीन चरण के चुनाव रह गए हैं. तीसरे चरण का चुनाव 28 अक्टूबर, चौथे चरण का चुनाव 1 नंवबर को और पांचवे चरण का चुनाव 5 नंवबर को होगा. बिहार चुनाव के नतीजे आठ नवंबर को आएंगे.

IANS