भभुआ. भभूआ रैली में पीएम मोदी ने अपनी रैली ना होने को लेकर साजिश करार दिया है. मोदी ने कहा कि पहले मेरे मन की बात प्रोग्राम को रोकने के लिए डेलिगेशन के डेलिगेशन शिकायत लेकर पहुंचे. फिर यहां भभुआ में रैली रोकने की कोशिश की. फिर बोले- आप मेरी सभाओं पे रोक लगाओेगे? मैं मजदूर आदमी हूं, पैदल चल पड़ूंगा. मोदी ने कहा, मुझे भभुआ में साजिश की बू आ रही है. चुनाव आयोग को इस मामले को देखना चाहिए. गौरतलब है कि डीएम ने मोदी को इस रैली के लिए अनुमति देने से मना कर दिया था. फिर अनुमति मिलने के बाद महागठबंधन ने इसके प्रसारण पर रोक की मांग की थी.

महागठबंधन पर बोला हमला

भभुआ रैली में मोदी ने महागठबंधन पर निशाना साधते हुए पिछले 60 सालों का हिसाब मांगा है. मोदी ने कहा कि बिहार में 35 सालों तक कांग्रेस, 15 साल तक लालू और 10 साल सीएम नीतीश ने राज किया लेकिन इस चुनाव में उन्होंने अपने काम का हिसाब नहीं दिया. वहीं मोदी ने लालू-नीतीश की जोड़ी को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि भाई-छोटे-भाई की सरकार खूब चलीं पर काम का हिसाब देने में देरी क्यों? पीएम मोदी ने बिहार की नीतीश सरकार पर सवाल करते हुए कहा ‘अगर ऐसी सरकार सत्ताम में आई तो राज्यी को विकास के लिए दिए गए 1 लाख 65 हजार करोड़ रुपये के पैकेज का क्या होगा?

पीएम ने कहा, केंद्र की तरफ से शिक्षा के क्षेत्र में जो रुपये भेजे गए, उनमें से 1 हजार करोड़ रुपये का हिसाब अभी तक बिहार सरकार ने नहीं भेजा है. मोदी ने कहा कि स्वास्थ्य क्षेत्र में भी 500 करोड़ का हिसाब बिहार सरकार ने नहीं दिया. यहां तक की गरीब-पिछड़े वर्ग की छात्राओं के लिए जो रुपये भेजे गए, उसमें से अब तक 300 करोड़ रुपये का हिसाब केंद्र सरकार को नहीं दिया गया. अगर सरकार हिसाब देने की स्थिति में नहीं होगी, तो कैसे चलेगा ? उन्होंनने जनता से पूछा, ‘दोबारा राज्यस में ऐसी सरकार चलाएंगे क्याै?’