पटना. पांच फेज में होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव के पहले फेज तक ही नेताओं के बीच जुबानी जंग अपनी सभी हदों को पार कर गयी है. इलेक्शन कैंपेन शुरू होते ही लालू-नीतीश ने जहां मोदी पर कई मुद्दों पर निशाना साधा, वहीं मोदी ने भी जवाबी बयानबाजी करने में कोई कसर नहीं छोड़ी. बता दें कि पहले फेज में 49 सीटों पर 12 अक्टूबर को वोटिंग होनी है. इसके लिए आज चुनाव प्रचार थम जाएगा. 
 
किन जिलों पर रहेगी नज़र
मुंगेर 
बिहार के मुंगेर जिले में विधानसभा की तीन सीटें आती हैं. इसमें मुंगेर, तारापुर और जमालपुर शामिल हैं. इन सीटों के महत्व को ऐसे भी समझा जा सकता है कि पीएम मोदी खुद इस जिले में रैली करने पहुंचे. यहीं की रैली में पीएम मोदी ने लालू के शरीर में शैतान प्रवेश करने की बात कही थी जिसपर आरजेडी प्रमुक लालू प्रसाद यादव ने अपना आपा खो दिया. हालत तो यह भी है कि पीएम के भाषण की जांच करने की बात चुनाव आयोग ने कही है. वैसे मुंगेर के बारे में भी कहा जाता है कि यहां पर अवैध हथियार बनाने का कारोबार खूब चलता है और चुनावी मौसम तो इस कारोबार से जुड़े लोगों का तो सीजन कहा जाता है. वैसे यह जिला नक्सल प्रभावित भी है.
 
बेगूसराय 
बेगूसराय मध्य बिहार में स्थित है. इसके उत्तर में समस्तीपुर, दक्षिण में गंगा नदी और लक्खीसराय, पूरब में खगडिया और मुंगेर तथा पश्चिम में समस्तीपुर और पटना जिले हैं. बेगूसराय बिहार के औद्योगिक नगर के रूप में जाना जाता है. बेगूसराय जिले में छह विधानसभा सीटें है. इनमें चेरिया, बरियारपुर, बछवाड़ा, तेघड़ा, मटिहानी, साहेबपुर कमाल और बेगूसराय बाखरी (एससी सीट) सीटें शामिल हैं. पहले चरण के मतदान में इन सीटों के लिए वोटर अपना बहुमूल्य मत देंगे. खास बात तो यह है कि यहीं की रैली में पीएम मोदी ने पहली बार यूपी के दादरी की घटना पर चुप्पी तोड़ते हुए बयान दिया था.
 
समस्तीपुर
बिहार में समस्तीपुर खासा बड़ा जिला है. यहां से विधानसभा की 10 सीटें हैं। इनमें कल्याणपुर(एससी), वारीसनगर, समस्तीपुर, उजियारपुर, मोरवा, सराईरंजन, मोहोद्दीनगर, विभूतिपुर, रोसड़ा(एससी), हसननगर की सीटें हैं. समस्तीपुर की चुनावी सभा में पीएम नरेंद्र मोदी ने बिहार के लोगों को आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव के समय की याद दिलाई थी जब कहा जाता था कि राज्य में जंगलराज है. पीएम मोदी ने कहा कि बिहार में अपहरण सबसे बड़ी इंडस्ट्री था. 7 महीने में 4000 अपहरण हुए. हम फिर जंगलराज नहीं आने देंगे.
 
भागलपुर 
बिहार की सिल्क सिटी कहे जाने वाले भागलपुर में राजनीतिक गहमागहमी चरम पर है. सभी दल के उम्मीदवार अधिक से अधिक मतदाताओं तक खुद पहुंचने की कवायद में जुटे हैं परंतु भागलपुर के समीकरण हर चुनाव में बदलने के कारण और जातिगत समीकरण में सामाजिक न्याय वर्ग की अधिकाधिक भागीदरी से सभी दल के उम्मीदवारों में बेचैनी है. भागलपुर जिले में बीहपुर, गोपालपुर, पीरपैंटी (एससी), कहलगांव, भागलपुर, सुलतानगंज, नाथनगर की विधानसभा सीटें आती हैं.
 
नवादा
बिहार का नवादा नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में आता है. इस क्षेत्र से बीजेपी के पीएम मोदी के समर्थक और दिग्गज नेता गिरिराज सिंह सांसद हैं. बता दें कि यहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की नवादा के रसेलीगंज में रैली हो रही थी जब इस रैली में कुछ लोगों ने काले झंडे लहराए और मोदी-मोदी के नारे भी लगाए. यही नहीं प्रदर्शनकारियों ने स्टेज की तरफ जूते-चप्पल भी लहराए. इस जिले में रजौली(एससी), हिसुआ, नवादा, गोविंदपुर, वारसिलगंज की विधानसभा सीटें आती हैं.