पटना. राजद सुप्रीमो लालू यादव के बीफ खाने वाले बयान पर बीजेपी यादव वोटरों को तोड़ने के लिए रणनीति बनाने में जुट गई है. लालू के ‘हिंदू भी बीफ खाते हैं’ वाले बयान को लेकर बीजेपी यादव वोटरों के पास लेकर जाएगी.
 
यादव पशुपालक जाति हैं जो गाय-भैंस पालती है और गाय की पूजा करती है. पार्टी का मानना है कि लालू ने हिंदुओं के बीफ खाने की बात कहकर पशुपालन से जुड़े यादवों का भी अपमान किया है.
 
लालू का कोर वोट बैंक यादव और मुसलमान हैं. बीजेपी की रणनीति है कि लालू के बीफ वाले बयान पर यादवों के बीच लालू को एक्सपोज किया जाए और यादव वोटों में सेंध लगाई जाए.
 
वरिष्ठ बीजेपी नेता सुशील मोदी ने कह दिया है कि बिहार में बीजेपी की सरकार बनी तो गोहत्या पर प्रतिबंध लगाएंगे. हालांकि बिहार में पहले से ही गोहत्या पर प्रतिबंध है. लेकिन, बीजेपी नेताओं का कहना है कि सरकार इस कानून को ठीक से लागू नहीं होने देती. 

 

क्या कहा था लालू ने ?

लालू ने कहा था , ‘जो बाहर जाते हैं बीफ़ खा रहे हैं कि नहीं? अपने को हिंदू कहने वाले भी तो खा रहे हैं. जो मांस खाते हैं उसके लिए गाय और बकरे के मांस में क्या फ़र्क है.’

आरक्षण के बयान को लालू के बीफ वाले बयान से मेकअप करेगी बीजेपी ?

बीजेपी अब लालू के बीफ वाले बयान से अपने आरक्षण वाले बयान को मेकअप करने की कोशिश करने में लग गई है. बीजेपी के एक सीनियर नेता ने कहा है कि अब लालू पर हमला बोलने की बारी हमारी है.
 
उन्होंने कहा कि लालू काफी लंबे समय से अगड़ा-पिछड़ा राजनीति कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि हम लालू के वोट बैंक को संदेश देने की कोशिश करेंगे. 
 
इस बात की तस्दीक बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने भी की है. उन्होंने कहा है कि यदुवंशियों के लिए गाय उनकी मां के समान होती है और लालू के इस बयान  की निश्चित रुप से ही इस समुदाय के अंदर से प्रतिक्रिया आएगी.
 
सुशील मोदी ने लालू पर साधा निशाना-
यह भी पढ़ें-