बक्सर. बिहार चुनाव सिर पर हैं ऐसे में सभी राजनीतिक पार्टिया जोर-शोर से प्रचार में जुट गई हैं. ऐसे में जनता का मूड क्या है ये जानने के लिए इंडिया न्यूज़ दर्शकों के लिए खास शो ‘चुनावी चौराहा’ लेकर आया है. इसी कड़ी में आज इंडिया न्यूज़ पहुंचा है बक्सर.

बक्सर को विश्वामित्र की नगरी कहा जाता है. साल 1764 में यहां अंग्रेजों और मुगलों के बीत युद्ध हुआ था. बक्सर को साल 1964 की लड़ाई के लिए भी जाना जाता है. लेकिन आज के बक्सर की राजनीतिक लड़ाई में कौन जीत रहा है इस पर डालेंगे एक नजर. बक्सर में कुल 4 विधानसभा की सीटें हैं. 2010 चुनावों में ये चारों सीटें बीजेपी-जदयू के गठबंधन ने जीतीं थीं. इस बार दोनों पार्टी अलग-अलग गठबंधन बनाकर चुनाव लड़ रहीं हैं जिससे पूरे इलाके में राजनीतिक समीकरण उलझे-उलझे नज़र आ रहे हैं.

पिछले नतीजों पर नज़र डालें तो बक्सर से बीजेपी के प्रोफ़ेसर सुखादा पांडे , ब्रह्मपुर से बीजेपी की दिलमरनी देवी, डुमरांव से जदयू के दाउद अली, राजपुर से जदयू के संतोष कुमार नैरेला ने जीत दर्ज की थी. बक्सर की चारों सीटों पर तीसरे चरण में 28 अक्टूबर को वोटिंग होनी है.