नई दिल्ली. सीट बंटवारे को लेकर एनडीए में जीतन राम मांझी पर पेंच फंसा हुआ है. सीट बंटवारे के फॉर्मूले से मांझी खुश नहीं है. बीजेपी ने 17 सीटों पर खुद के टिकट और 5 सीटों पर बीजेपी के टिकट पर लड़ने का ऑफर दिया है लेकिन मांझी 25 सीट से कम पर मानने को तैयार नहीं हैं.
  
कल दिन भर बीजेपी में चला बैठकों का दौर
जीतन राम मांझी के मसले पर बीजेपी में कल दिन भर चलीं बैठकें चलीं. रात में भी अनंत कुमार, धर्मेंद्र प्रधान और भूपेंद्र यादव ने की बैठक. तीनों नेता मांझी से भी मिले और इसके बाद पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को सारा ब्योरा दिया. सूत्रों के मुताबिक मांझी ने कहा कि ‘अगर बीजेपी हमें इतनी सीटें दे रही है तो उम्मीदवारों को हमारी पार्टी के चुनाव चिन्ह पर ही लड़ने दे.’ सूत्रों के मुताबिक मांझी ने बीजेपी से कहा कि ‘मुझे चुनाव नहीं लड़ना, आप सभी सीटों पर लड़ लीजिए.’
 
मांझी से मिलेंगे अमित शाह 
मांझी और बीजेपी में अगर आज सब कुछ ठीकठाक रहा तो मांझी और अमित शाह की आज मुलाकात हो सकती है. सीट विवाद के बीच मांझी ने पटना जाने का कार्यक्रम रद्द कर दिया है. आज दिल्ली में अमित शाह के घर पर बिहार बीजेपी के कोर ग्रुप की बैठक है जिसमें सुशील मोदी, मंगल पांडे, भूपेंद्र यादव और अनंत कुमार रहेंगे मौजूद. वहीं बिहार चुनाव को लेकर NDA में सीट बंटवारे पर मांझी की नाराजगी को देखते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का मैसूर दौरा रद्द हो गया है. सीट बंटवारे को लेकर चल रहे विवाद के बीच जन अधिकार पार्टी के नेता पप्पू यादव ने कहा है कि जीतनराम मांझी बिहार में दलितों के बड़े नेता हैं बीजेपी उनका सम्मान करे.
 
अब मांझी कहां जाएंगे?
मांझी की नाराज़गी का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि जब कल रामविलास पासवान ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को मिठाई खिलाई तो मांझी अंदर-अंदर आगबगुला हो गए. अमित शाह और राम विलास पासवान की मिठाई खिलाने वाली यही तस्वीरें जीतनराम मांझी को खटक रही हैं. सूत्रों के मुताबिक इन तस्वीरों को लेकर मांझी का कहना है कि गठबंधन में जिस तरह का सम्मान पासवान का है वैसा उनका नहीं.
 
सवाल ये तो भी उठने लगे हैं कि अगर बीजेपी की नाव पर मांझी नहीं आए तो क्या होगा. कहां जाएंगे, क्या करेंगे. जेडीयू ने साफ कर दिया है कि हमारे दरवाजे मांझी के लिए बंद हैं. वहीं सूत्रों के मुताबिक आखिरी वक्त में मांझी की सौदेबाजी से बीजेपी नाराज हो गई. आधी रात को मांझी और अमित शाह के बीच फोन पर बात हुई. सूत्रों के मुताबिक अमित शाह ने मांझी की सभी बातें मानने का भरोसा दिया. अगर सबकुछ ठीक-ठाक रहा तो आज सीटों का एलान हो सकता है. अगर मांझी सीटों से खुश नहीं होते हैं तो एनडीए के सपने पर पानी भी फिर सकता है.