पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव मंगलवार से बिहार में एक साथ चुनाव अभियान शुरू करेंगे. मंगलवार नीतीश और लालू की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस होगी इसके बाद संयुक्त अभियान की शुरुआत की जाएगी. आपको बता दें कि संयुक्त अभियान के पहले चरण के समापन पर नीतीश और लालू 29 अगस्त को पटना में स्वाभिमान रैली करेंगे.
 
इस अभियान का नाम होगा शब्द वापसी. नीतीश और लालू की तरफ से दावा किया गया है कि पीएम मोदी से डीएनए वाला बयान वापस लेने के लिए 50 हजार लोगों के दस्तखत वाला ज्ञापन तैयार किया जाएगा. दावा ये भी है कि लोग पीएम के बयान पर विरोध जताने के लिए अपने डीएनए का सैंपल भेजेंगे.
 

बिहार का अपमान नहीं सहेंगे
आपको बता दें कि रविवार दोपहर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गया में पार्टी की परिवर्तन रैली में सीएम नीतीश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद पर जोरदार निशाना साधा तो शाम होते-होते नीतीश कुमार ने जवाबी हमले में जबरदस्त तीखे वार किए. नीतीश ने कहा बिहार को बीमारू राज्य कहकर पीएम मोदी ने दूसरी बार बिहार की जनता को अपमानित किया है.
 
नीतीश ने कहा, “पहली बार आए तो डीएनए का सवाल छेड़ा और बिहारियों को अपमनित किया, हमने आग्रह किया कि शब्द वापस ले लें, लेकिन उन्होंने शब्द वापस नहीं लिया और इस बार बिहार को बीमारू राज्य कहकर बिहार के लोगों को एक बार फिर जलील किया है.” अब नीतीश कुमार ने डीएनए मामले को बिहार के स्वाभिमान से जोड़ दिया है. हालांकि, बीजेपी कह रही है कि पीएम ने जिस डीएनए की बात कही थी वो राजनीतिक डीएनए का मामला था. मोदी ने मुजफ्फरपुर की रैली में कहा था कि नीतीश कुमार का डीएनए की खराब