नई दिल्ली. मधेपुरा के सांसद और जन अधिकार मोर्चा के प्रमुख पप्पू यादव गिरफ्तार हो सकते हैं. पटना पुलिस का कहना है कि पप्पू के बाहर रहने से इलाके की कानूनी व्यवस्था को खतरा है. पप्पू के खिलाफ शिक्षक आंदोलन में कानून तोड़ने को लेकर केस भी दर्ज किया गया है. पप्पू यादव इन दिनों लालू- नीतीश के लिए सिरदर्द बने हुए हैं. दो दिन पहले ही पप्पू ने लालू और नीतीश को नपुंसक तक कह दिया था.

पप्पू की सक्रियता से जेडीयू और आरजेडी की नींद उड़ी हुईं हैं. पप्पू की बीजेपी से बढ़ती नजदीकियां भी जनता परिवार के लिए बड़ा सिरदर्द है. माना जा रहा है कि पप्पू की सक्रियता से चुनाव में लालू को यादव वोटों का नुकसान हो सकता है. खगड़िया जिले के परबत्ता में दलित समुदाय के लोगों की पिटाई के खिलाफ पप्पू ने रविवार को खगड़िया बंद कर रखा था. इसके खिलाफ आज वो राजभवन मार्च भी करने वाले थे.
 
वैशाली में मुखिया की हत्या के खिलाफ आंदोलन की धमकी दे रखी है. पिछले महीने किशनगंज में छात्र की हत्या के खिलाफ 11 जुलाई को बिहार बंद किया था. पप्पू कह चुके हैं कि विधायक अनंत सिंह और सुनील पांडे उनके जीते जी जेल से बाहर नहीं आ सकते. पप्पू इन दिनों घूम घूमकर नीतीश सरकार को माफिया राज बताने में जुटे हैं.