गया. ख़ुफ़िया एजेंसियों ने अलर्ट जारी किया है कि पकिस्तान से आए कुछ आतंकी पुलिस की वर्दी में 9 अगस्त को बिहार के गया में होने वाली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली पर बड़ा हमला कर सकते हैं. 

रैली से पहले सुरक्षा कड़ी की गई 
एडीजी सुनील कुमार ने केंद्रीय खुफिया ब्यूरो, रॉ सहित कई इंटेलीजेंस एजेंसियों से मिले इनपुट्स के आधार पर अधिकारियों को बताया कि आइएस, इंडियन मुजाहिद्दीन व लश्कर-ए-तोयबा सहित अन्य आतंकवादी संगठनों द्वारा ड्रोन से पीएम के मंच व रॉकेट लांचर से पीएम के हेलीकॉप्टर को निशाना बनाये जाने की आशंका है. एडीजी ने अधिकारियों से कहा कि आतंकवादियों का कोई रूप नहीं होता. वह किसी भी वेश में रैली में घुस सकते हैं. इस कारण हर पल अधिकारी सतर्क रहें. खुफिया एजेंसियों से मिली सूचनाओं का गंभीरता से अध्ययन कर उस पर काम करना शुरू कर दें. गया शहर में प्रवेश करने के सभी मुख्य मार्गो पर वाहनों की चेकिंग शुरू कर दी जाये.  शहर में प्रवेश के कई ऐसे लिंक रास्ते हैं, जो पुलिस की नजर से दूर हैं. संबंधित थानों की पुलिस की मदद से शहर के सभी रास्तों का अध्ययन कर लें. 

गांधी मैदान में सुरक्षा के ख़ास इंतजाम 
पीएम के लिए गांधी मैदान में बनाये जानेवाले मंच की सुरक्षा में एसपीजी (स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप), एनएसजी (नेशनल सिक्यूरिटी गार्ड) के वरीय अधिकारी व जवान रहेंगे. मंच की चारों तरफ प्रस्तावित सुरक्षा घेरा ‘डी’ को छोड़ कर गांधी मैदान, एयरपोर्ट से शहर तक, शहर के सभी प्रमुख इलाकों में सुरक्षा के कड़े प्रबंध को लेकर बनाये गये ब्लू प्रिंट की समीक्षा पटना से आये आइपीएस (पटना सेंट्रल डीआइजी) अधिकारी शालीन ने की. गांधी मैदान को 16 सेक्टरों में बांटा गया है. एसएसपी ने शालीन को बताया कि हर सेक्टर में डीएसपी रैंक के एक अधिकारी की तैनाती की जायेगी. शालीन ने बताया कि जिस सेक्टर में डीएसपी के साथ-साथ जितने भी इंस्पेक्टर, सब इंस्पेक्टर व जवानों की पोस्टिंग की जाये, वे सभी आपस में अच्छी तरह से परिचित हो जायें और वरीय अधिकारियों से जवानों के बारे में पूरी जानकारी जुटा लें.

एजेंसी इनपुट भी