दिल्ली. आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से चार महीने के अंदर दूसरी बार मिलने पहुंचे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दिल्ली सचिवालय में बंद कमरे में केजरीवाल और डिप्पी सीएम मनीष सिसौदिया से काफी देर बात की.

मुलाकात के बाद नीतीश ने कहा कि वो दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने की केजरीवाल सरकार की मांग का पूरा समर्थन करते हैं. उन्होंने कहा कि जनता बडे़ अरमान से सरकार चुनती है और वो सरकार अगर इस वजह से जनता की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाए तो जवाब कौन देगा.

नीतीश इससे पहले मार्च के आखिरी सप्ताह में अरविंद केजरीवाल से मिले थे और तब उन्होंने मुलाकात के बाद कहा था कि वो केजरीवाल को जीत की बधाई देने आए थे. नीतीश ने उस मुलाकात के बाद भी दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने की केजरीवाल की मांग का समर्थन किया था.

नीतीश और केजरीवाल मुलाकात पर मीडिया से जो भी बोलते हैं उसमें बस दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने का मुद्दा होता है लेकिन राजनीतिक गलियारों में इस गलबहियां की काफी चर्चा है. 

क्या बिहार में नीतीश की मदद करेंगे केजरीवाल ?

केजरीवाल के आग्रह पर नीतीश ने अपने राज्य से कुछ पुलिस अधिकारी दिल्ली की एंटी करप्शन ब्यूरो को दिया था.  अरविंद केजरीवाल ने नीतीश का आभार जताया था और कुछ और राज्यों से इस तरह से पुलिस अधिकारी मांगे थे लेकिन बाकी जगह से कुछ खास मिला नहीं.

नीतीश के राज्य में इस साल के अंत तक विधानसभा चुनाव है. बिहार में बीजेपी की अगुवाई में एनडीए नीतीश की अगुवाई वाले गठबंधन को कड़ी टक्कर देता दिख रहा है.

बीजेपी को दिल्ली में बुरी तरह धूल चटाने वाले केजरीवाल से नीतीश किस तरह की राजनीतिक मदद चाहते हैं या अरविंद कितनी मदद करने को तैयार हैं, ये साफ होने तक नीतीश और केजरीवाल की हर मुलाकात पर सबकी नजर टिकी रहेगी.