नई दिल्ली. भारत में वेदों के बाद सर्वाधिक मान्यता और प्रचलन ‘मनुस्मृति’ का है. इसमें चारों वर्णों, चारों आश्रमों, 16 संस्कारों और सृष्टि उत्पत्ति के अतिरिक्त राज्य की व्यवस्था, राजा के कर्तव्य, भांति-भांति के विवादों, सेना का प्रबन्ध आदि उन सभी विषयों पर परामर्श दिया गया है जो कि मानव मात्र के जीवन में घटित होने सम्भव हैं.

इसी पर विस्तार से देखिए भारत पर्व: