नई दिल्ली. ‘वेद’ हिन्दू धर्म के प्राचीन पवित्र ग्रंथों का नाम है, इससे वैदिक संस्कृति प्रचलित हुई. ऐसी मान्यता है कि इनके मन्त्रों को परमेश्वर ने प्राचीन ऋषियों को अप्रत्यक्ष रूप से सुनाया था. इसलिए वेदों को श्रुति भी कहा जाता है.

वेद प्राचीन भारत के वैदिक काल की वाचिक परम्परा की अनुपम कृति है, जो पीढी दर पीढी पिछले चार-पांच हज़ार वर्षों से चली आ रही है. वेद के असल मन्त्र भाग को संहिता कहते हैं. (वीडियो में देखिए,भारतीय वेदों का सबसे बड़ा वरदान)