नई दिल्ली. प्राचीन काल से ही भारत की सभ्यता और संस्कृति का पोषण करती गंगा नदी इस धरती के लिए महत्त्वपूर्ण है. इसे यहां केवल जल का स्रोत ही नहीं माना जाता बल्कि देवी मानकर पूजा जाता है. कोई भी विशेष धार्मिक अनुष्ठान गंगा-जल के बिना पूरा नहीं होता. लेकिन आज गंगा पहले जैसी नहीं रही. इसका पावन जल प्रदूषित हो चुका है.