नई दिल्ली. भगवान शंकर का साक्षात रूप महाराज दत्तात्रेय में मिलता है और तीनो ईश्वरीय शक्तियों से समाहित महाराज दत्तात्रेय की आराधना बहुत ही सफल और जल्दी से फल देने वाली है. महाराज दत्तात्रेय आजन्म ब्रह्मचारी, अवधूत और दिगम्बर रहे थे. वे सर्वव्यापी हैं और किसी प्रकार के संकट में बहुत जल्दी से भक्त की सुध लेने वाले हैं. अगर मानसिक, या कर्म से या वाणी से महाराज दत्तात्रेय की उपासना की जाए तो भक्त किसी भी कठिनाई से बहुत जल्दी दूर हो जाते हैं.
 
भगवान दत्तात्रेय की पौराणिक कथा आपको बताएंगे आध्यात्मिक गुरु पवन सिन्हा इंडिया न्यूज़ के खास कार्यक्रम भारत पर्व में.