नई दिल्ली. पौराणिक कथाओं और भारतीय संस्कृति में गरुड़ का बहुत महत्व है. कहा जाता है कि गरुड़ खुशियों का सूचक होता है. स्वपन में गरुड़ देखना शुभ संकेत होता है.
 
ऐसा क्या है कि स्वपन में गरुड़ को देखने से किस्मत बदल सकती है. आखिर गरुड़ है क्या, एक पक्षी ? लेकिन फिर एक पक्षी किस्मत कैसे बदल सकता है. एक पक्षी गरुड़ पुराण कैसे लिख सकता है ?. गरुड़ को कश्यप ऋषि का पुत्र भी कहा जाता है. फिर वह किसी का वाहन कैसे बन सकता है. 
 
इन सब प्रश्नों का उत्तर देंगे अत्याधमिक गुरू पवन सिन्हा इंडिया न्यूज़ के खास शो भारत पर्व में.