नई दिल्ली. गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित श्रीरामचरितमानस के सुंदरकांड का पाठ अक्सर शुभ कार्यों की शुरुआत से पहले किया जाता है. सुंदरकांड एकमात्र ऐसा अध्याय है जो श्रीराम के भक्त हनुमान की विजय का कांड है. इंडिया न्यूज शो भारत पर्व में आध्यात्मिक गुरु पवन सिन्हा बताते हैं कि सुंदरकांड के पाठ से व्यक्ति को मानसिक शक्ति प्राप्त होती है.
 
किसी भी काम को पूरा करने के लिए आत्मविश्वास मिलता है. शास्त्रों में इनकी कृपा पाने के कई उपाय बताए गए हैं. किसी भी प्रकार की परेशानी हो, सुंदरकांड के पाठ से दूर हो जाती है. यह एक श्रेष्ठ और सबसे सरल उपाय है. इसी वजह से काफी लोग सुंदरकांड का पाठ नियमित रूप करते हैं.
 
वीडियो पर क्लिक करके देखिए भारत पर्व: