भारत पर्व

नागा साधुओं के बिना क्यों अधूरा है कुंभ? देखिए खास शो ‘भारत पर्व’

ऩई दिल्ली. नागा साधुओं को आपने कुंभ के मेले में अक्सर देखा होगा. कुंभ के मेले में पूरे शरीर में भभूति लगाए नागा साधु आपको आसानी से नजर आ जाएंगे,....

नागा साधु के कपड़े न पहनने के पीछे क्या है राज

नई दिल्ली. आपने कई बार कुंभ मेले के कवरेज में देखा होगा कि नागा बाबा लोग कपड़े नहीं पहनते हैं और पूरे शरीर पर राख लपेटकर घूमते हैं. उन्हें किसी....

सास-बहू का झगड़ा खत्म करने का महामंत्र!

नई दिल्ली. सास-बहू का झगड़ा आज के टाइम में हर घर में आम बात हो गई है. आज के दौर में ऐसा घर बड़ी मुश्किल से मिलेगा जहां पर सास....

उज्जैन के ये घाट जहां स्नान करने से मनोकामनाएं होती हैं पूरी

नई दिल्ली. उज्जैन में कई घाट है यह प्रसिद्ध सिद्धवट मंदिर के पास क्षिप्रा नदी के बायें किनारे पर स्थित है. सिंहस्थ महाकुम्भ पर्व व धार्मिक पवित्र नहान पर आने....

सीखिए खुद के जीवन में खुशहाली का मंत्र

नई दिल्ली. मनुष्य जीवन में पेड़ महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. वैसे तो सभी पेड़ों का अपना-अपना महत्व है लेकिन पीपल का पेड़, अन्य पेड़ों से अधिक पवित्र और शुद्ध माना....

क्वांटम सिध्दांत भी सिध्दि को सही मानता है

नई दिल्ली. क्ववांटम फिजिक्स यह सिध्दि का ही एक पार्ट होता है इसके द्वारा भी हम शरीर व मन की सूक्ष्म अवस्था प्राप्त करने की प्रक्रिया को समक्ष सकते हैं.....

कृष्ण की कथाओं, इतिहास का प्रदर्शन करते हैं मंदिर

नई दिल्ली. भगवान विष्णु के अवतारों में से भगवान कृष्ण सबसे ज्यादा पूजनीय अवतार हैं. पूरे विश्व में श्रीकृष्ण के भक्त हैं और उनके मंदिर भी मौजूद हैं, जहां उनके....

सास-बहू का झगड़ा खत्म करने का महामंत्र

नई दिल्ली. सास और बहू का झगड़ा आज हर घर में आम बात हो गई है. आज के दौर में ऐसा घर बड़ी मुश्किल से मिलेगा जहां पर सास बहू....

रावण राक्षस है तो उसे पंडित क्यों माना जाता है?

नई दिल्ली. रावण के दस शीश छ: शास्त्रो और चार वेदों के प्रतिक थे इसलिए रावण को प्रकांड पंडित की उपाधि दी थी. शिवजी जानते थे कि रावण एक राक्षस....

सिंहस्थ कुंभ में स्नान का शास्त्रीय तरीका

नई दिल्ली. कुंभ मेले का ज्योतिष शास्त्र से विशेष संबंध है. इस आयोजन में होने वाले खास स्नान तिथियों और ग्रह-नक्षत्रों के विशेष संयोग से ही होते हैं. कुंभ में....

तेरह अखाड़े हैं सिंहस्थ की प्रमुख पहचान

नई दिल्ली. उज्जैन सिंहस्थ कुम्भ 2016 अपने आप में अनोखा है. साधु-संतों व उनके अखाड़ों की भी अपनी-अपनी विशिष्ट परंपराएं व रीति-रिवाज होते हैं.'उज्जयिनी' नामकरण के पीछे भी इस प्रकार....

पूजा में क्यों जरूरी है नारियल व तिल का प्रयोग?

नई दिल्ली. किसी भी प्रकार की पूजा-पाठ में हम नारियल और तिल का अक्सर इस्तेमाल करते हैं, लेकिन आखिर दोनों सामग्रियों का इस्तेमाल पूजा में क्यों होता है? आज हम....

अक्षय तृतीया कब से और क्यों मनाई जाती है?

नई दिल्ली. वैशाख महीने में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया या आखा तीज कहते हैं. इस तिथि पर किए गए किसी भी शुभ काम का फल कई....

भोजन कैसे प्रभावित करता है हमारा भाग्य

नई दिल्ली. अन्न को शास्त्रों में प्राण की संज्ञा दी गई है. अन्न को प्राण कहने में न तो कोई अयुक्त है और न अत्युक्ति, निःसन्देह वह प्राण ही है.....

क्या 100 बच्चों को जन्म दे सकती है कोई मां ?

नई दिल्ली. लोगों के घर में अभी तक किलकारियां नहीं गूंजी या संतान प्राप्ति नहीं हुई तो परेशान होने की कोई बात नहीं है क्योंकि संतान प्राप्ति के सरल उपाय.....

श्री राम, सीता, हनुमान के जन्मों का राज जानें, होगी ऐसी ही संतान

नई दिल्ली. राम (रामचन्द्र), प्राचीन भारत में अवतरित, भगवान थे. हिन्दू धर्म में, राम, विष्णु के 10 अवतारों में से सातवें हैं. राम का जीवनकाल एवं पराक्रम, महर्षि वाल्मीकि द्वारा....

रुद्राक्ष का कच्चा फल खाने के फायदे

नई दिल्ली. भारतीय संस्कृति में रुद्राक्ष का बहुत महत्व है. रूद्र के अक्ष अर्थात् रूद्र की आंख से निकले अश्रु बिंदु को रुद्राक्ष कहा गया है. आपने साधु-संतों को रुद्राक्ष....

भगवान गणेश जी को हाथी का सिर लगाने का सत्य जानिए

नई दिल्ली. भगवान गणेश शिवजी और पार्वती के छोटे पुत्र हैं और उनका वाहन मूषक है. गणों के स्वामी होने के कारण उनका एक नाम गणपति भी है. हिंदू परंपराओं....

जानिए 64 विधाओं का योगनियों से क्या संबंध है

नई दिल्ली. योगिनी शब्द से हम में से अधिकाश भय ग्रस्त से हो जाते हैं. मां योगिनी मंदिर झारखंड में गोड्डा जिले के पथरगामा प्रखंड में स्थित है. यह जिला....

कीजिए हनुमान और उनकी पत्नी के मंदिर का दर्शन

नई दिल्ली. तेलंगाना के खम्मम जिले में एक मंदिर ऐसा विद्यमान है, जो प्रमाण है हनुमानजी के विवाह का. इस मंदिर में हनुमानजी की प्रतिमा के साथ उनकी पत्नी की....

विश्वामित्र ने दूसरे स्वर्ग का निर्माण कैसे किया?

नई दिल्ली. विश्वामित्र जी उन्हीं गाधि के पुत्र थे. वे अपने समय के वीर और ख्यातिप्राप्त राजाओं में गिने जाते थे. शाप के कारण त्रिशंकु चाण्डाल बन गये तथा उनके....

जानिए रावण के विमान का एयरपोर्ट श्रीलंका में कहां है

नई दिल्ली. भगवान हनुमान जब माता सीता की खोज में लंका गए थे. तब उन्हें रास्ते में एक विमान दिखा था. विमान काफी विशाल था. रावण ने कुबेर को पराजित....

दिल्ली के कालकाजी मंदिर में क्यों भारी संख्या में आतें है भक्त?

नई दिल्ली. राजधानी  दिल्ली के दक्षिण में स्थित कालकाजी मंदिर देश के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है. यह मां काली का मंदिर है और देशभर से लोग यहां....

navratra special Maa Naina Devi Shaktipith of Durga

नवरात्र स्पेशल: मां सती के नयन गिरने से बना नयनादेवी शक्तिपीठ

नई दिल्ली. नैना देवी मंदिर हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले में है. यह शिवालिक पर्वत श्रेणी की पहाड़ियों पर स्थित एक भव्य मंदिर है. कहा जाता है कि यहां माता....

घर बैठे पाइए मां बगलामुखी का आशीर्वाद

नई दिल्ली. प्राचीन तंत्र ग्रंथों में दस महाविद्याओं का उल्लेख मिलता है. उनमें से एक है बगलामुखी. मां भगवती बगलामुखी का महत्व समस्त देवियों में सबसे विशिष्ट है. विश्व में....

जानिए पाकिस्तान स्थित हिंगलाज माता का महत्व

नई दिल्ली. हिंगलाज माता मंदिर, पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में सिंध राज्य की राजधानी कराची से120 कि॰मी॰ में स्थित है. उत्तर-पश्चिम में हिंगोल नदी के तट पर ल्यारी तहसील के....

यम योग में सामाजिक नैतिकता के अंग क्या हैं?

नई दिल्ली. भारत की नैतिकता इतनी ऊंची थी कि सारा संसार अपने चरित्र के अनुसार शिक्षा प्राप्त करे. ऐसी घोषणा यहां की जाती थी. नैतिकता के अंग हैं – सच....

क्या वाकई कैलाश पर्वत के नीचे पाताल लोक है?

नई दिल्ली. कैलाश पर्वत तिब्बत में स्थित एक पर्वत श्रेणी है. इसके पश्चिम तथा दक्षिण में मानसरोवर तथा रक्षातल झील हैं. यहां से कई महत्वपूर्ण नदियां निकलतीं हैं - ब्रह्मपुत्र,....

जानिए खास वनस्पति कैसे देंगी सुख व शांति

नई दिल्ली. भारतीय संस्कृति मूलतः अरण्य संस्कृति रही है, अरण्य अर्थात् वन. जन्म से ही मनुष्य का नाता प्रकृति से जुड़ा जाता है. इसी कारण प्रकृति की आराधना तथा पर्यावरण का....

जानिए दत्तात्रेय कैसे करते हैं भक्तों का कल्याण

नई दिल्ली. भगवान शंकर का साक्षात रूप महाराज दत्तात्रेय में मिलता है और तीनो ईश्वरीय शक्तियों से समाहित महाराज दत्तात्रेय की आराधना बहुत ही सफल और जल्दी से फल देने....