नई दिल्ली. कन्नौज में जन्मी देश की सुरीली बेटी मालिनी अवस्थी को ठुमरी, दादरी, कजरी, होरी और छठ के गानों के लिए दुनिया भर में जाना जाता है. मालिनी को उनके गायन के लिए पद्म श्री पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
ठुमरी की गायिका के पति आईएएस अफसर हैं. उन्हें इंग्लैंड, अमेरिका, मॉरिशस, फिजी के साथ पाकिस्तान जैसे देशों में भोजपुरी लोक संगीत को पहुंचाने का श्रेय दिया जाता है.
 
कन्नौज की मालिनी के पिता डॉक्टर थे. उनका पूरा परिवार उनके जन्म के कुछ समय बाद ही गोरखपुर चला आया था. वहां उन्होंने इंटर तक की पढ़ाई की, इस बीच उनके पिताजी का ट्रांसफर कई जगहों पर होता रहा. उन्होंने अपने गुरु उस्ताद राहत अली साहब से संगीत की साधना सीखी.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
बचपन में मां की ख्वाहिश थी कि मालिनी क्लासिकल संगीत सीखे और लोगों तक पहुंचाए. उन्होंने बनारस में गिरजा देवी से ठुमरी सीखा.
 
इंडिया न्यूज़ के खास कार्यक्रम बेटियां में देखिए देश की सुरीली बेटी मालिनी अवस्थी के जीवन का सफर.