नई दिल्ली. बिहार चुनाव के नतीजों को लेकर बीजेपी ने स्वीकार कर लिया है कि वह वोट गणित को समझ नहीं पाई और इस वजह से उनकी बड़ी हार हुई. संसदीय बोर्ड की मीटिंग में कहा कि महागठबंधन के घटक दलों को हमने कम आंका लेकिन वह अपना वोट एक-दूसरे को ट्रांसफर कराने में कामयाब रहे.
 
उन्होंने कहा कि कोई चुनाव एक बयान के ऊपर तय नहीं होता है बल्कि चुनाव का अपना ही गणित होता है. अब पार्टी बिहार के जनादेश को स्वीकार करती है और उम्मीद करती है कि नई सरकार राज्य की प्रगति के लिए काम करेगी. 
 
वीडियो पर क्लिक करके देखिए पूरी बहस: