नई दिल्ली. शिवसेना ने पूर्व बीजेपी नेता सुधींद्र कुलकर्णी का चेहरा स्याही से पोत दिया. इस चेहरे ने हर हिंदुस्तानी को एक खतरनाक लेकिन बेहद अहम संदेश दिया है. वो ये कि अगर आप अपने लोकतांत्रिक अधिकारों की बात करेंगे, तो अगला चेहरा आपका भी हो सकता है.

सुधींद्र कुलकर्णी, पाक के पूर्व विदेशमंत्री खुर्शीद महमूद कसूरी की किताब लॉन्चिंग को लेकर शिवसेना के निशाने पर आए. शिवसेना के पाक विरोधी तेवर जगजाहिर हैं, लेकिन सवाल उठ रहे हैं कि एक किताब पर इस तरह का एतराज कितना जायज है. सवाल बीजेपी पर भी उठ रहे हैं कि सरकार में सहयोगी पार्टी के ऐसे कट्टरवादी इरादों में उसकी साझेदारी कितनी है ?  

ये सवाल इसलिए भी अहम है क्योंकि देश में अचानक से कट्टरता का एक सैलाब सा उमड़ पड़ा है, जो अपने खिलाफ उठी किसी भी आवाज को नेस्तानबूद कर देने पर आमादा है. ऐसे में सवाल ये भी है कि कुलकर्णी के चेहरे पर लगी ये कालिख असल में किसके चेहरे पर मली गई ?

वीडियो में देंखे इन सवालों पर पूरी बहस