नई दिल्ली. कुछ दिनों की शांति के बाद एक बार फिर दिल्ली की केजरीवाल सरकार केंद्र की मोदी सरकार के साथ गुत्थम-गुत्था हो गई है. कल ही केजरीवाल, पीएम मोदी से मिलकर सुलह की बातें करके आए थे, लेकिन आज एक चिट्ठी सामने आ गई जो दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने एलजी नजीब जंग के नाम लिखी है.
 
 
2012 के सीएनजी घोटाले की जांच को लेकर लिखी गई इस चिट्ठी में सिसोदिया ने नजीब जंग को साफ लफ्जों में कह दिया है कि दिल्ली सरकार, केंद्र के गृह मंत्रालय की मिल्कियत नहीं है. दरअसल सीएनजी घोटाले की जांच के लिए केजरीवाल सरकार ने एक आयोग बिठाया है. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस पर आपत्ति जताई थी, जिसके जवाब में केजरीवाल सरकार ने ये खत लिखा है. 
 
 
ये शायद पहला मौका होगा जब दो चुनी हुई सरकारों के बीच इस तरह की नूराकुश्ती देखने को मिली हो. सवाल उठता है कि क्या ये नूराकुश्ती पूरे पांच सालों तक जारी रहेगी? क्या केजरीवाल 5 सालों तक केंद्र लड़ने के अलावा भी कुछ करेंगे