नई दिल्ली. दिल्ली सरकार के मुखिया अरविंद केजरीवाल अब फिर से अपने विधायकों की कुंडली खंगालेंगे. पार्टी के सभी विधायकों को अपनी शैक्षणिक योग्यता और आपराधिक रिकॉर्ड की जानकारी देने के लिए कहा गया है. पार्टी के दो विधायक पहले से जेल में हैं. एक तो कानून मंत्री बन चुके थे, लेकिन उनकी कानून की डिग्री ही फर्जी होने के आरोप लग गए. 

दूसरे विधायक मनोज कुमार पर धोखाधड़ी का मामला है. दो-दो विधायकों की पोल खुलने के बाद केजरीवाल एक्शन में आए हैं, लेकिन सवाल उठता है कि इस पूरी कवायद का क्या मतलब है. साफ-सुथरी राजनीति का दावा करने वाले केजरीवाल ने अपने साथियों को पहले क्यों नहीं जांचा परखा? सवाल ये भी है कि जिन लोगों ने चुनाव आयोग से झूठ बोला हो, क्या अब वो आपको सच बता देंगे ? (पूरी बहस देखने के लिए वीडियो पर क्लिक करें)