नई दिल्ली. आप के विधायकों ने दिल्ली सरकार से अपनी वेतन बढ़ाने की मांग की है. वे भूल गए हैं कि जिन लोगों ने मतदाता बनकर उन्हें वोट दिया वे अब भी गरीबी रेखा में जीते हैं. उनकी आमदनी 1145 रुपए से ज्यादा नहीं, फिर भी वे किसी तरह दिल्ली जैसे महंगे शहर में रह रहे हैं.

ऐसे में सोचना चाहिए कि क्या इन विधायको को मिल रहा वेतन भत्ता 84 हजार भी इनके खर्चों के लिए कम पड़ रहा है. हैरानी इस बात पर होती है कि आप तो आम आदमी के लिए नए किस्म की राजनीति करने आए थे फिर आम आदमी की परवाह ना करके इन्हें अपनी फिक्र क्यों ?

वीडियो में देखिए बीच बहस में..