नई दिल्ली. बीजेपी ने जम्मू-कश्मीर झारखंड और हरियाणा चुनाव का फॉर्मूला बिहार में भी अपनाने का मन बना लिया है. बिहार में बीजेपी किसी भी राज्य के नेता को अपना चेहरा नहीं बनाएगी, बल्कि मोदी के नाम पर जंग लड़ी जाएगी. ये एलान खुद बिहार बीजेपी के प्रभारी अनंत कुमार ने किया है, ऐसे में विरोधी केजरीवाल की तरह सवाल पूछने लगे हैं कि क्या बिहार बीजेपी में नीतीश को टक्कर दे सकने वाले नेता नहीं हैं ? 

क्या मोदी प्रधानमंत्री की कुर्सी छोड़कर बिहार के सीएम बनेंगे ? बीच बहस का बड़ा सवाल भी यही है कि क्या बिहार में बीजेपी के पास वाकई ऐसा कोई चमत्कारी नेता नहीं है जो नीतीश का मुकाबला कर सके ? बिहार में बीजेपी के लिए मोदी जरूरी हैं या फिर मजबूरी बन गए हैं ?