नई दिल्ली. एक महीने बाद बैसाखी का त्योहार है  यानि खेत से कटकर नई फसल खलिहानों में पहुंचने का उत्सव आने वाला है. लेकिन जरा सोचिए बैसाखी के दिन देश के किसानों पर क्या गुजरेगी ? 
 
बीते चंद रोज में पूरे उत्तर भारत हुई बारिश और ओलों ने खेतों में तैयार खड़ी फसल की शक्ल बिगाड़कर रख दी है. पिछले सीजन में सूखे की मार झेलने वाले किसानों को इस बार बेमौसम की बरसात ने कहीं का नहीं छोड़ा. 
 
फसल कितनी बर्बाद हुई, अर्थव्यवस्था और जीडीपी में इसका कितना असर पड़ेगा ये आंकड़े आने में तो अभी वक्त लगेगा. लेकिन किसानों के आंखों के आंसू तो अभी से दिख रहे हैं.
 
अब ये सरकार पर है कि वो इन आंसुओं को पोंछने में कितनी ईमानदारी दिखाती है. इंडिया न्यूज के खास शो ‘बीच बहस में’ इसी अहम मुद्दे पर होगी बीच बहस.
 
वीडियो क्लिक करके देखिए पूरा शो