नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली के सवा लाख कर्मचारियों के घर का चूल्हा बुझने की कगार पर है. एमसीडी के इन कर्मचारियों को तीन महीने से तनख्वाह नहीं मिली है, लिहाजा वो हड़ताल पर हैं. हड़ताल पर गए लोगों में ज्यादातर सफाई कर्मचारी हैं. बताने की जरुरत नहीं कि तीन दिनों की हड़ताल के बाद दिल्ली की सूरत क्या हो गई है.
 
जगह-जगह कूड़े और गंदगी के ढेर लग चुके हैं. दिल्ली सरकार इस बात पर अड़ी है कि उसने अपने हिस्से का पैसा दे दिया है.
सवाल उठता है कि ये पैसा गया तो कहां गया ? कर्मचारियों को वेतन क्यों नहीं मिला ?
 
सबसे बड़ा सवाल ये है कि दिल्ली को इस हाल में पहुंचाने का जिम्मेदार कौन है ? इस बीच बैंगलुरू में बैठे केजरीवाल ने सुझाव दिया है कि MCD को भंग कर देना चाहिए तो क्या बस यही एक तरीका बचा है MCD की समस्याएं सुलझाने का ?
 
इंडिया न्यूज के खास शो ‘बीच बहस में’ आज इन्हीं सवालों पर होगी चर्चा.
 
 
वीडियो क्लिक कर देखिए पूरा शो