नई दिल्ली. शुक्रवार के दिन केजरीवाल सरकार अपनी ऑड-ईवन की कवायद का पूरा चिट्ठा हाईकोर्ट के सामने रखेगी और बताएगी कि प्रदूषण में कितनी कमी आई है. दरअसल प्रदूषण एक जटिल मुद्दा है जितना मुश्किल इससे निपटना है, उतना ही मुश्किल इसको समझना भी है.
 
प्रदूषण की वजहों पर अब तक कई तरह की रिसर्च हो चुकी है और अलग-अलग विशेषज्ञों की अलग अलग राय सामने आई है. ऐसे में दिल्ली सरकार कल किस तरीके से आंकड़े पेश करेगी और कोर्ट इन्हें किस तरह से समझकर क्या मतलब निकालेगी, हम ये बात आज नहीं कह सकते.
 
मोटे तौर पर जो आंकड़े उपलब्ध हैं, उसके आधार पर हम आज दिल्ली में प्रदूषण का रियलिटी चेक करने जा रहे हैं और इस रियलिटी चेक के आधार पर हम ये जानने की कोशिश करेंगे कि केजरीवाल सरकार दिल्ली में प्रदूषण कम करना चाहती है या उसकी ज्यादा दिलचस्पी ईवन-ऑड चलाने में है.
 
वीडियो पर क्लिक करके देखिए पूरा शो: