नई दिल्ली. केजरीवाल के एक बड़े अफसर पर सीबीआई ने नकेल क्या कसी, उन्होंने प्रधानमंत्री और केंद्र सरकार के खिलाफ जंग ही छेड़ दी. पहले तो केजरीवाल ने प्रधानमंत्री के खिलाफ अपशब्दों का इस्तेमाल किया और अब डीडीसीए की आड़ में वित्तमंत्री अरुण जेटली पर चढ़ाई शुरू कर दी.

डीडीसीए पर लगे कई आरोपों को वो सबूत बनाकर अरुण जेटली के गिरेबां में हाथ डालने पर आमादा हैं, लेकिन अपने अफसर के खिलाफ लगे दर्जनों ऐसे ही आरोपों की तरफ वो देखना भी नहीं चाहते.

बीच बहस में आज बात होगी क्या ईमानदारी और साफगोई के लिए केजरीवाल ने दो-दो मापदंड बना रखे हैं ? सवाल ये भी है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ इस जंग को केजरीवाल बनाम जेटली क्यों बनाया जा रहा है ?