नई दिल्ली. साल 2008 में आज ही के दिन मुंबई पर पाकिस्तान से आए आतंकियों खूनी खेल खेला था. ये हमला उस वक्त तक दुनिया के किसी भी हिस्से में हुआ सबसे बड़ा आतंकी हमले था. मुंबई पर पड़ी आतंक की इस भयंकर मार ने हमारी सुरक्षा व्यवस्था और खतरों से निपटने की तैयारियों को आइना दिखा दिया था.
 
आज उस हमले को सात साल पूरे हो गए. सवाल उठता है कि सात सालों बाद हम कहां खड़े हैं? क्या मुंबई इसी तरह के दूसरे हमले से निपटने के लिए तैयार है? मुंबई ही क्यों, देश का कोई भी शहर आतंकी चुनौती के सामने कहां खड़ा होता है? क्या हमने 26/11 के हमलों से कुछ सीखा है ? 
 
वीडियो पर क्लिक करके देखिए पूरा लिंक: