नई दिल्ली : भारत में लग्ज़री कारों की मांग में बढ़ती तेजी को देखते हुए टोयोटा भी अपना लग्ज़री ब्रांड लेक्सस यहां उतारने वाली है. अटकलें हैं कि भारत में लेक्सस कारों को 2017 की पहली तिमाही में लॉन्च किया जाएगा. लेक्सस कारों को जापान से इंपोर्ट कर भारत में बेचा जाएगा. कंपनी शुरूआत में दो एसूयवी आरएक्स450एच और एलएक्स450डी और एक सेडान ईएस300एच को यहां उतारेगी. कंपनी ने संभावित ग्राहकों के लिए इनकी टेस्ट ड्राइव और बुकिंग शुरू कर दी हैं.  
 
अंतरराष्ट्रीय बाजार में यह एसयूवी काफी लोकप्रिय है. इस के आखिरी शब्द ‘एच’ का मतलब हाइब्रिड है. दुनियाभर में लेक्सस की जितनी भी कारें बिकती हैं, उनमें 40 फीसदी हिस्सा इस एसयूवी का है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसका मुकाबला बीएमडब्ल्यू एक्स3 और ऑडी ए5 से है. भारत में इसकी कीमत 1 करोड़ रूपए के आसपास जा सकती है. इसमें 3.5 लीटर का वी6 पेट्रोल इंजन और तीन इलेक्ट्रिक मोटर लगी है. इनकी संयुक्त पावर 308 पीएस है. यह ऑल व्हील ड्राइव एसयूवी है, इस में ई-सीवीटी गियरबॉक्स दिया गया है, जो सभी पहियों पर पावर सप्लाई करता है. 
 
यह भी लेक्सस की फ्लैगशिप एसयूवी है, इसे भी भारत में उतारा जा सकता है. यह टोयोटा लैंड क्रूज़र पर बनी है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में यह दो इंजन में उपलब्ध है. संभावना है कि भारत में यह पहले डीज़ल अवतार में आएगी, पेट्रोल वेरिएंट को बाद में उतारा जाएगा. अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसके डीज़ल वेरिएंट में 4.5 लीटर का वी8 इंजन लगा है, जो 273 पीएस की पावर और 650 एनएम का टॉर्क देता है. यह इंजन 6-स्पीड ऑटोमैटिक गियरबॉक्स से जुड़ा है. पेट्रोल वेरिएंट में 5.7 लीटर का वी8 इंजन लगा है, जो 388 पीएस की पावर और 546 एनएम का टॉर्क देता है. यह इंजन 8-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन से लैस है. इसका मुकाबला रेंज रोवर और ऑडी क्यू7 से है. भारत में इसकी संभावित कीमत 2 करोड़ रूपए के आसपास रहने की संभावना है.
 
संभावना है कि यह भारत में लेक्सस की सबसे अफोर्डेबल कार होगी. यह एक हाइब्रिड सेडान है, जो टोयोटा कैमरी पर बनी है. इसमें 2.5 लीटर के पेट्रोल इंजन के साथ एक इलेक्ट्रिक मोटर दी गई है, जो सीवीटी गियरबॉक्स से जुड़ी है. इंटरनेशनल मार्केट में इसका मुकाबला बीएमडब्ल्यू 5-सीरीज और ऑडी ए6 से है. इसकी कीमत करीब 75 लाख रूपए के आसपास जा सकती है. इसे परफॉर्मेंस कार से ज्यादा एक आरामदायक कार के तौर पर तैयार किया गया है.
 
भारत में सीधे इंपोर्ट होने की वजह से लेक्सस कारें अपनी प्रतिद्वंदी कारों की तुलना में काफी महंगी होगी. हालांकि हाइब्रिड टेक्नोलॉज़ी से लैस होने के कारण आरएक्स450एच और ईएस300एच ऑटो फैंस और ज्यादा बज़ट वाले ग्राहकों का ध्यान जरूर अपनी ओर खींच सकती हैं.