Hindi ardh-satya ArdhSatya, Rainfall In India, Heavy Raining, Southwest Monsoon, Maharashtra, Rainfall, India Meteorological Department, Gujarat, India News http://www.inkhabar.com/sites/inkhabar.com/files/field/image/Reality-check-on-preparedness-of-civic-authorities-in-the-country-during-monsoon.gif
Home » Ardh Satya » अर्ध सत्य: 18 राज्यों में सालाना तबाही, फिर भी सिस्टम खामाशो ?

अर्ध सत्य: 18 राज्यों में सालाना तबाही, फिर भी सिस्टम खामाशो ?

अर्ध सत्य: 18 राज्यों में सालाना तबाही, फिर भी सिस्टम खामाशो ?

| Updated: Sunday, July 16, 2017 - 18:39
Ardhsatya, Rainfall In India, Heavy Raining, Southwest Monsoon, Maharashtra, Rainfall, India Meteorological Department, Gujarat, India News

Reality check on preparedness of civic authorities in the country during monsoon

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
अर्ध सत्य: 18 राज्यों में सालाना तबाही, फिर भी सिस्टम खामाशो ?Reality check on preparedness of civic authorities in the country during monsoonSunday, July 16, 2017 - 18:39+05:30
नई दिल्ली: बरसात का मौसम है-देश के तमाम शहर-गांव नदी बने हुए हैं, नदियां तबाही की वजहें बनी हुई हैं, इस बेलगाम मौसम में लावरवाही की हद करनेवाले लोग दिखते हैं, इस लापरवाही में घर-बार तो छोड़िए जान तक गंवा बैठने वाले लोग मिलते हैं और मज़े मज़े में जान को जोखिम में डाल देनेवाले भी लोग मिलते हैं.
 
शहरों में हर तरह का टैक्स देने के बाद भी नगरपालिका और नगरनिगमों से कोई नहीं पूछता कि बारिश के बाद पानी निकलता क्यों नहीं. क्यों भ्रष्टाचार की भेंट सड़कें, पुल और बांध चढ जाते हैं और कोई कहता नहीं कि ये क्या अंधेरगर्दी है. लेकिन नियम-कायदों पर कोई आपको कसने लगे तो सबसे पहले हम अपनी औकात बताने पर आ जाते हैं. तुरंत फोन पर हाथ जाता है कि कोई नेताजी, साहेब जी, बाहुबली जी, कोई भी जी हुजूर को बोलकर इस नियम बतानेवाले की बोलती बंद करा दो. 
 
दरअसल हम हिंदुस्तानियों की मानसिकता, खुद में बरसात से पैदा हुए सैलाब-सी है. पानी रहता तो है लेकिन ताबाही का. ना पी सकते और ना उसके चलते जी सकते. हम ना कोई नियम जिम्मेदारी का पालन करते हैं और ना ही जो लोग ऐसा करवाना चाहते हैं उनको चैन से रहने देते हैं. 
 
एसडीएम साहब ने अपनी जान गंवा दी- एक जिम्मेदार-समझदार अफसर ने. हमारी मानसिकता ही है कि चलो देखेंगे, अब इंतजार कौन करे या फिर कौन लंबा रास्ता नापे. थोड़ा जोखिम ही है ना, पार कर लेंगे. इसी ओवरकॉन्फिडेंस में हम जान तक गंवा बैठते हैं. यहां मुझे हाल ही में सेल्फी के चक्कर में नागपुर के वैना डैम में अभी पांच रोज पहले नाव के पलटने वाली घटना याद आ रही है कुछ लोग डैम में सैर सपाटे के लिये नाव की सवारी कर रहे थे. 
 
(वीडियो में देखें पूरा शो)
First Published | Sunday, July 16, 2017 - 18:39
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
Web Title: Reality check on preparedness of civic authorities in the country during monsoon
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

फोटो गैलरी

  • कजाकिस्तान में भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी से मिलते अफगानी राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी
  • उत्तराखंड के बद्रीनाथ मंदिर में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी
  • मुंबई के केलु रोड स्टेशन पर एक ट्रेन में सवार अभिनेता विवेक ओबेरॉय
  • मुंबई में अभिनेत्री सनी लियोन "ज़ी सिने पुरस्कार 2017" के दौरान प्रदर्शन करते हुए
  • सूफी गायक ममता जोशी, पटना में एक कार्यक्रम के दौरान प्रदर्शन करते हुए
  • लखनऊ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बधाई देते प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी
  • मुंबई में आयोजित दीनानाथ मंगेसकर स्मारक पुरस्कार समारोह में अभिनेता आमिर खान
  • चेन्नई बंदरगाह पर भारतीय तटरक्षक बल आईसीजीएस शनाक का स्वागत
  • आगरा में ताजमहल देखने पहुंचे आयरलैंड के क्रिकेटर
  • अरुणाचल प्रदेश में सेला दर्रे पर भारी बर्फबारी का एक दृश्य